मोबाइल से जन्म कुंडली कैसे देखे? मात्र 5 मिनट में

Kundli Kaise Dekhe: प्राचीन काल से ही अधिकतर लोग अपनी राशियों पर तथा कुंडलियों पर भरोसा बहुत ज्यादा करते हैं, क्या आप भी अपनी कुंडली पर भरोसा करते हैं, यदि आप अपनी कुंडली पर भरोसा करते हैं लेकिन आपको यह नहीं पता है कि Kundali Kaise Dekhte हैं।

इस लेख में हम आपको यह बताने वाले हैं कि आप अपने मोबाइल फोन से ही अपनी कुंडली आसानी के साथ देख सकते हैं, क्योंकि समय-समय पर अक्सर बहुत सारे लोग अपनी कुंडली देखते रहते हैं, लेकिन बहुत सारे लोग अपनी जन्म कुंडली सही प्रकार से ना जान पाते हैं।

यदि आप अपने मोबाइल फोन का उपयोग करके अपनी जन्म कुंडली देखना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत ही उपयोगी होगा क्योंकि इस लेख में यह बताया गया है कि आप किस प्रकार से मोबाइल की सहायता से अपनी कुंडली देख सकते हैं।

हालांकि प्राचीन काल से ही हर व्यक्ति के लिए जन्म कुंडली बेहद महत्वपूर्ण होती है, लेकिन जन्म कुंडली का देखा जाना सनातन धर्म में होता है, जन्म कुंडली देखकर ही ऋषि मुनि परिवार में जन्मे बच्चे का नामकरण करते हैं।

हमें कुंडली से यह भी पता चलता है कि हमारे भूतकाल और भविष्य काल का क्या होगा, और आपका यह समय कैसा रहने वाला है इसीलिए आपको अपनी जन्म कुंडली के बारे में जानकारी होनी चाहिए यदि आप अपने बारे में सही जानकारी रखना चाहते हैं।

Kundli Kaise Dekhte hai | जन्म कुंडली किस प्रकार देखते हैं?


जन्म कुंडली को जन्मपत्रिका नाम से भी अधिकतर व्यक्ति जानते हैं, जन्म कुंडली का अर्थ आकाश की स्थिति से जुड़ा हुआ होता है, जब सनातन धर्म में कोई बालक या बालिका जन्म लेता है तब उसे समय ग्रहों की स्थिति क्या थी, इसका ध्यान रखते हुए ऋषि मुनियों के द्वारा जन्म कुंडली को बनाया जाता है।

जन्म कुंडली से पटाया लगाया जाता है कि जगत के जीवन में नौ ग्रह और 12 राशियों का प्रभाव रहता है, हमारे जीवन में आने वाला समय कैसा होगा यह नौ ग्रह और 12 राशियों के जरिए पता चलता है, अपनी जन्म कुंडली सही प्रकार से बनाने के लिए कुल 12 खानों का निर्माण किया जाता है।

हालांकि जैसे ज्योतिषी भाषा में भाव का नाम दिया गया है किसी भी बालक या बालिका की कुंडली को तैयार करने के लिए कल 12 राशियों का उपयोग किया जाता है|

हालांकि इन सभी 12 राशियों का अलग-अलग भाव लिखे जाते हैं, इसके जरिए ही हर किसी व्यक्ति का भूत भविष्य और वर्तमान काल के बारे में पता लगाया जाता है।

कुंडली में शामिल किए जाने वाले ग्रह कौन से होते हैं?


जन्म कुंडली में ऋषि मुनियों के द्वारा सभी ग्रहों को प्राचीन काल से ही शामिल किया गया है, लेकिन आज के इस दौर को देखकर यह पता चलता है कि अधिकतर लोग इनके बारे में बहुत ही कम जानकारी रखते हैं, इसीलिए हमको यह जान लेना चाहिए कि आखिर इसमें कौन कौन से ग्रह शामिल किए जाते हैं।

  • सूर्य ग्रह
  • चन्द्र ग्रह
  • मंगल ग्रह
  • बुध ग्रह
  • शुक्र ग्रह
  • शनि ग्रह
  • राहू ग्रह
  • केतु ग्रह
  • बृहस्पति ग्रह

I Love You Full Form क्या है? 

कुंडली के भाव क्या होते हैं?


पृथ्वी पर जिस व्यक्ति ने जन्म लिया है उसे व्यक्ति की कुंडली में 12 अलग-अलग भाव होते हैं, और इन सभी का महत्व भी बिल्कुल अलग-अलग होता है, इसीलिए आपको कुंडली के सभी भाव के बारे में एक सही जानकारी होना बेहद जरूरी है इसलिए आपको जान लेना चाहिए।

  • प्रथम भाव – कुंडली में जो पहला भाव होता है वो “स्व” का भाव होता है.

  • दूसरा भाव – कुंडली में दूसरा भाव धन, परिवार, पहलुओं पर शासन करता है.

  • तीसरा भाव – कुंडली में जो तीसरा भाव है वह “भाई-बहन”, “साहस” और “वीरता” का भाव होता है.

  • चौथा भाव –  कुंडली में जो चौथा भाव है वह “माँ” और “खुशी” का भाव है.

  • पंचम भाव – कुंडली में जो पांचवा भाव है वह “ज्ञान” एवं “बच्चो” का भाव है.

  • छठा भाव – कुंडली में जो छठा भाव है वह “शत्रु”, “कर्ज” एवं “बीमारियों” का भाव है.

  • सप्तम भाव – कुंडली में जो सातवा भाव है वह “विवाह” एवं “साझेदारी” का भाव है.

  • आठवां भाव: कुंडली में जो आँठवा भाव है वह घर “दीर्घायु” और “आयु” का भाव है.

  • नवम भाव – कुंडली में जो नौवा भाव है वह “भाग्य”, “पिता” एवं “धर्म” का भाव है.

  • दसवां भाव – कुंडली में जो दसवा भाव है वह “कैरियर या पेशे” का भाव है.

  • एकादश भाव – कुंडली में जो ग्यारवा भाव है जातक की “आय और लाभ” का भाव है.

  • बाहरवा भाव – कुंडली में जो बाहरवा भाव है “व्यय और हानि” का भाव होता है.

ऑनलाइन जन्म कुंडली कैसे देखते हैं?


आज के समय में बहुत सारे ऐसे व्यक्ति हैं जो की ऋषि मुनियों के पास ना जाकर वह अपनी जन्म कुंडली अपने मोबाइल के जरिए ही ऑनलाइन देखना पसंद करते हैं क्योंकि यह प्रक्रिया बहुत ही आसान होता है।

यदि आपने पहले कभी अपने मोबाइल के जरिए अपनी कुंडली नहीं देखी है तो आपको हमारे द्वारा बताए गए कुछ स्टेप्स को फॉलो करना होगा।

  • सबसे पहले आपको अपने मोबाइल का गूगल क्रोम ओपन करना होगा।
  • अब आपको अपने गूगल क्रोम में Free Kundli लिखकर सर्च करना होगा।
  • अब आपके मोबाइल फोन पर बहुत सारी वेबसाइट नजर आने लगेगी।
  • आप इन सभी वेबसाइटों में से एक बढ़िया वेबसाइट चुन सकते हैं और उसे पर क्लिक करें।
  • जैसे ही आप उसे वेबसाइट पर क्लिक करते हैं आपके सामने एक फॉर्म ओपन हो जाता है।
  • इस फॉर्म में आपको सही प्रकार से अपना नाम, जन्म स्थान, जन्म समय इत्यादि को दर्ज करना होगा।
  • जब आपके द्वारा सभी जानकारी सही प्रकार से भर जाती हैं अब आपको Show Kundali वाले बटन पर क्लिक करना होगा।

इतना करते ही आपके मोबाइल फोन में आपकी जन्म कुंडली पूरी तरह ओपन हो जाएगी और आप अपने भविष्य के बारे में सब कुछ जान सकते हैं।

सप्ताह के 7 दिनों के नाम

एप्लीकेशन से जन्म कुंडली किस प्रकार देखते हैं?


बहुत सारे ऐसे भी व्यक्ति हैं जो आज के समय में एप्लीकेशन का इस्तेमाल करके अपनी जन्म कुंडली आसानी के साथ देख लेते हैं, क्योंकि गूगल पर बहुत सारे ऐसे एप्लीकेशन मौजूद हैं जो आपको जन्म कुंडली बना कर देते हैं।

यदि आपने पहले कभी एप्लीकेशन के जरिए अपनी कुंडली को नहीं देखा है तो आपको एप्लीकेशन का किस प्रकार से इस्तेमाल करना है वह हम नीचे की ओर स्टेप बाय स्टेप आपको बताते हैं इसीलिए आपको इन स्टेप्स को फॉलो करना है।

  • सबसे पहले आपको अपने मोबाइल फोन में प्ले स्टोर ओपन कर लेना है।
  • अब आपको अपने प्ले स्टोर पर Kundli In Hindi लिखकर सर्च करना होगा।
  • अब आपके मोबाइल फोन में कई सारे एप्लीकेशन नजर आने लगेंगे।
  • इन एप्लीकेशनों में से आप एक बढ़िया एप्लीकेशन चल सकते हैं।
  • अब आपको आपके द्वारा चुनी हुई एप्लीकेशन को ओपन करना होगा।
  • जब आप इस एप्लीकेशन को ओपन करते हैं तो आपके सामने कई प्रकार के विकल्प मिलते हैं।
  • लेकिन आपको केवल कुंडली वाले विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके मोबाइल फोन पर उसे एप्लीकेशन का होम पेज ओपन हो जाएगा।
  • जहां पर आपको अपना नाम, लिंग, जन्म, समय, जन्म स्थान इत्यादि से ही प्रकार से दर्ज करना होगा।

जब आपके द्वारा यह सब कुछ सही प्रकार से भरकर सबमिट कर दिया जाता है तो आपको आपकी जन्म कुंडली दिखाई पड़ जाती है, और आपका अपनी जन्म कुंडली को देख सकते हैं, और अपनी जन्म कुंडली का प्रिंट भी निकलवा सकते हैं।


भगवान श्री कृष्ण के कितने पुत्र थे?

Conclusion | Janam Kundali Kaise Dekhte


यदि आपने हमारे द्वारा लिखा हुआ Janam Kundali Kaise Dekhte हैं, सभी प्रकार से पढ़ा है तो आपको यह पता चल गया होगा कि जन्म कुंडली मोबाइल फोन के जरिए किस प्रकार से देखी जाती है।

क्योंकि अभी तक बहुत ही काम ऐसे व्यक्ति हैं जो अपने मोबाइल फोन का उपयोग करके अपनी जन्म कुंडली देख पाते हैं, हालांकि अधिकतर लोग आज भी अपनी जन्म कुंडली दिखाने के लिए ऋषि मुनियों के पास जाते हैं।

यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप अपनी जन्म कुंडली प्रकार से देखते हैं यदि आप ऋषि मुनियों का सहारा लेकर अपनी जन्म कुंडली देखना चाहते हैं तो आप किसी बढ़िया ऋषि मुनि के पास जा सकते हैं।

2 thoughts on “मोबाइल से जन्म कुंडली कैसे देखे? मात्र 5 मिनट में”

Leave a Comment