अपनी औकात में रहकर सर्च करें (यहां क्लिक करके जाने) – Rajput Ko kabu Kaise Kare

Rajput Ko kabu Kaise Kare: राजपूत को काबू में करना बिल्कुल नामुमकिन है, यदि आपके मन में लंबे समय से यह सवाल चल रहा है कि क्या आसानी के साथ राजपूत को काबू में किया जा सकता है तो आपका यह सवाल बिल्कुल गलत है।

क्योंकि किसी भी राजपूत को आसानी के साथ काबू में करना किसी के बस की बात नहीं है, लेकिन जब आप राजपूत के साथ दोस्ती यारी तथा वफादारी रखते हैं तो राजपूत आपके लिए सब कुछ करने के लिए तैयार रहते हैं।

यही कारण है कि आज की समय में हर नौजवान वह किसी भी धर्म का क्यों ना हो वह राजपूत से दोस्ती करने की सोचता है क्योंकि कई रिपोर्ट के मुताबिक यह पता चलता है कि राजपूत जिस व्यक्ति से दोस्ती कर लेते हैं उसको कोई धोखा नहीं देते हैं।

लेकिन जब आपके मन में यह सवाल चल रहा है कि राजपूत को काबू में कैसे करें तो इस सवाल का जवाब यही है कि आप राजपूत को प्यार और दोस्ती के जरिए काबू में कर सकते हैं, तो चलिए यह जानते हैं कि राजपूत को कैसे काबू करें।


राजपूत को काबू कैसे करें? | Rajpoot Ko Kabu Mein Kaise Kare

यदि हम राजपूत के इतिहास के बारे में बात करें तो इनका इतिहास बहुत ही पुराना है क्योंकि राजपूत समाज में बहुत सारे योद्धा पैदा हुए हैं, राजपूतों के इतिहास के बिना भारत का इतिहास बिल्कुल फीका पर जाता है।

क्योंकि भारत देश के लिए राजपूत ने अपने प्राणों की आहुति तक दे दी है, कुछ राजपूत की कहानी ऐसी भी है जिनकी बातें सुनकर हर धर्म के व्यक्ति की नसों में रक्त तेजी से दौड़ने लगता है।

राजपूत किसी धर्म या जाति के लिए इस शब्द का इस्तेमाल प्राचीन काल में नहीं किया जाता था, राजपूत शब्द का इस्तेमाल राजा के पुत्रों के लिए किया जाता था, क्योंकि भारत में राजा के बाद उनके पुत्र ही उनका शासन चलाते थे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Rajput Ko kabu Kaise Kare
Rajput Ko kabu Kaise Kare

ऐसे में राजपूत होना प्राचीन काल में बड़े गर्भ की ही बात माना जाता था, क्योंकि राजपूत के पास अपने राज्य की जिम्मेदारी आ जाती थी, और अपने लोगों के लिए राजपूत अपने प्राण देने के लिए तैयार हो जाता था ताकि अपने लोगों को सुरक्षित रख सके।

लेकिन आज के इस दौर में राजपूत शब्द का इस्तेमाल केवल जाति के रूप में किया जाता है, लेकिन प्राचीन काल में राजपूत शब्द का इस्तेमाल केवल राजा के पुत्र के रूप में किया जाता था और यह बहुत ही बलवान माना जाता था।


राजपूत का मतलब क्या है?

राजपूत का मतलब राजा के पुत्र से संबंधित होता है, क्योंकि जब प्राचीन काल में जो राजा के पुत्र हुआ करते थे, उन पुत्रों को ही राजपूत कहा जाता था लेकिन राजपूत का शासन केवल सातवीं शताब्दी से लेकर 12वीं शताब्दी तक ही चला है।

जब साथ में शताब्दी में महाराजा सम्राट हर्षवर्धन की मृत्यु हो जाती है उसके बाद राजवंश का कार्य केवल 12वी शताब्दी तक ही चलता है क्योंकि उसके बाद मुसलमान की विजय हो जाती है, राजपूत ने 500 वर्षों तक मुसलमान से युद्ध किया था।

मुस्लिम को काबू में कैसे करें?

क्या राजपूत को काबू में किया जा सकता है?

प्राचीन काल से ही राजपूतों में परिहार, चौहान, सोलंकी, परमार, तोमर, कमजोरी, गढ़वाल वीरता प्रेम और देशभक्ति इत्यादि शामिल थी जो अपने राज्य के लिए वीरता से लड़ता था उसे व्यक्ति को ही राजपूत शब्द दिया जाता था।

लेकिन आज के समय में राजपूत को केवल एक जाति तक ही सीमित किया जाता है, हालांकि कुछ राज्य आज ही ऐसे हैं जहां पर राजा के पुत्रों को राजपूत का कर बुलाया जाता है, लेकिन भारत देश आज के समय में संविधान के दायरे से चलता है।

यही कारण है कि आज के समय में कोई भी राजा का पुत्र अपना अलग कानून नहीं चला सकता हैं, हालांकि आज भी जो सबसे शक्तिशाली जानी मानी जाती है वह राजपूत जानी मानी जाती है क्योंकि आज भी इस जाति का साहस माना जाता है।

प्राचीन काल से ही राजपूत जाति में सबसे ज्यादा वीर पैदा हुए हैं जिन्होंने अपने राज्यों के लिए अपने प्राणों की आहुति तक दे दी है, राजपूत ने हर समस्या का हाल बिना किसी डरे निकला है चाहे वह युद्ध क्यों ना हो।

प्राचीन काल में मुसलमान के आक्रमण से हिंदू धर्म की रक्षा केवल राजपूतों ने ही की थी, भारत देश में हिंदुओं पर हुए आक्रमण का बदला राजपूत ने भी लिया था, राजपूत ने मुगलों को घुटने पर लाकर खड़ा कर दिया था और यहां से भागने पर मजबूर कर दिया था।

Note: आज के इस युग में यदि आप किसी राजपूत को कंट्रोल में करना चाहते हैं, उसके लिए आपको सबसे पहले उनसे दोस्ती करनी होगी और कभी भी दोस्ती में धोखा नहीं देना है और ना ही आपको उनके साथ छल कपट करना है तभी आप राजपूत को कंट्रोल मे कर सकते हैं।

भारत देश में पहली बार राजपूत शब्द का उपयोग सातवीं शताब्दी में किया गया था, प्राचीन किताबों के अनुसार यह पता चलता है कि राजपूत, सूर्यवंशी और चंद्रवंशी ही क्षत्रिय वंश के माने जाते हैं, राजपूतों में महान योद्धा पृथ्वीराज चौहान को माना जाता है।

यदि आपके मन में सवाल अब भी यह चल रहा है कि राजपूत को काबू में कैसे करें तो यह आप बिल्कुल गलत सोच रहे हैं क्योंकि राजपूत को काबू में नहीं किया जा सकता हैं, क्योंकि राजपूत शब्द का प्रयोग राजा के पुत्र के रूप में किया जाता है, इन पुत्रों को कंट्रोल में करना नामुमकिन है।

यादवों को कैसे काबू करें?

Rajput Ko Kabu Mein Kaise Kare

राजपूत को काबू में करने के लिए आपको उनके बारे में सही प्रकार से जानना चाहिए तभी आप उनको काबू में कर सकते हैं उनके बारे में सही प्रकार से जानने के लिए आपको उनसे एक अच्छी दोस्ती करनी होगी तभी आप उनके बारे में सही प्रकार से जान सकते हैं।

राजपूत को कंट्रोल में या फिर काबू में करने के लिए आपको हमारे द्वारा बताए गए कुछ रूल्स का पालन करना होगा, जैसे की –

  • राजपूतों से जय माता दी कहकर सदैव मिले|
  • राजपूतों से इतिहास की बातें करें|
  • राजपूतों से कभी भी झूठ ना बोले|
  • राजपूतों से धार्मिक बातें करें|
  • राजपूत को सदैव सम्मान दें|
  • राजपूतों के शहर को ध्यान में सदैव रखें|
  • कभी भी राजपूत से विरोधी बातें ना करें|
  • राजपूत के सामने कभी भी दुश्मन की बात है ना करें|
  • सदैव राजपूत की तारीफ करें|
  • किसी भी परेशानी में राजपूतों का साथ देने की कोशिश करें|
  • सम्मानजनक शब्द इस्तेमाल करने की कोशिश करें|

Conclusion

यदि आपने इस लेख को सही प्रकार से पड़ा है तो आपको पता चल गया होगा कि राजपूत समाज के लोग कितने गौरवशाली माने जाते हैं|

भारत देश में आज भी बहुत सारे राज्यों में राजपूत का डंका बज रहा है, इसलिए को पढ़ते ही आपको राजपूत के इतिहास में कुछ जानकारी पता चल गई होगी।

पेट्रोल पंप खोलने के लिए लाइसेंस कैसे ले सकते है?

यदि आपने यह जानने की कोशिश की है कि राजपूतों को काबू में कैसे करें यह सवाल का जवाब आपको बड़ी ही आसानी के साथ इस लेख में पता चल गया होगा|

यदि आपकी भी कोई ऐसी जाती है जिसके बारे में आपको ज्यादा ज्ञान नहीं है तो आप हमें कमेंट बॉक्स के जरिए बता सकते हैं ताकि हम आपकी जाति के बारे में आपको बता सके।

2 thoughts on “अपनी औकात में रहकर सर्च करें (यहां क्लिक करके जाने) – Rajput Ko kabu Kaise Kare”

Leave a Comment