12वीं के बाद SHO कैसे बने? जरूरी योग्यता, उम्र सीमा, चयन प्रक्रिया

SHO Kaise Banate hai: क्या आप एक कक्षा 12वीं के छात्र हैं और आप SHO बनाने का सपना देख रही है लेकिन आपको यह नहीं पता है कि SHO बनाने के लिए क्या करना होता है, आपको इस लेख के जरिए यह पता चल जाएगा की SHO बनाने के लिए क्या-क्या करना होता है।

इस लेख में आपको यह भी पता चलेगा कि SHO का कार्य क्या होता है, लेकिन आपको यह तो पता ही होगा कि आज के समय में गवर्नमेंट या प्राइवेट जॉब को पाना आसान काम नहीं है किसी भी जॉब को हासिल करना बहुत ही मेहनत का काम होता है।

लेकिन आपका यह सपना है कि आप 12वीं कक्षा पास करके SHO बनाना चाहते हैं तो हम आपको इसलिए हमें यह बताने वाले हैं कि आप 12वीं कक्षा पास करके किस प्रकार से SHO की नौकरी हासिल कर सकते हैं तो चलिए जानते हैं।

SHO Kaise Banate hai | SHO बनाने के लिए क्या करना होता है?


SHO का पूरा नाम “स्टेशन हाउस अधिकारी” होता है, SHO की यूनिफॉर्म पर आप तीन स्टार लगे हुए देखते हैं, SHO की यूनिफॉर्म पर आपको लाल और नीले रंग की पट्टी लगी हुई दिखाई देती है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
SHO Kaise Banate hai
SHO Kaise Banate hai

इस लाल और नीले रंग की पट्टी से हर व्यक्ति SHO की पहचान कर लेता है, SHO पुलिस थाने का पूरी तरह इंचार्ज होता है, SHO का कार्य अपने क्षेत्र में पूरी तरह शांति बनाए रखना होता है यदि कोई कार्य गलत होता है तो SHO शक्ति से निपटा हैं।

SHO बनाने के लिए शैक्षणिक की योग्यता क्या होती है?


यदि आपका यह सपना है कि एक दिन आपको SHO बनाना है ताकि थाने का चार्ज अपने हाथों में ले सके, लेकिन आपको मान्यता प्राप्त विद्यालय से न्यूनतम स्नातक उतीर्ण इसके बाद ही आप इस पोस्ट के लिए अपने राज्य में आवेदन कर सकते हैं।

लेकिन आपको यह पता होना चाहिए कि इस जॉब को प्राप्त करने के लिए आपको कड़ी मेहनत करने की जरूरत होगी क्योंकि बहुत सारे विद्यार्थी इस जॉब को आसानी के साथ प्राप्त नहीं कर पाते हैं इसीलिए आपको इस जॉब को हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता होगी।

यदि आपने आसानी के साथ स्नातक की परीक्षा दी हुई है लेकिन इसका रिजल्ट अभी तक नहीं आया है तो आप ऐसे में इस पोस्ट के लिए फिर से आवेदन कर सकते हैं और इस जॉब को हासिल कर सकते हैं।

SHO बनने के लिए उम्र सीमा क्या होती है?


SHO बनाने के लिए बालक तथा बालिकाओं की न्यूनतम उम्र लगभग 18 वर्ष से अधिक और 25 वर्ष से कम होनी चाहिए यदि 25 वर्ष से अधिक आपकी उम्र सीमा है तो आप इस जॉब को हासिल नहीं कर सकते हैं।

  • जो छात्र ओबीसी वर्ग की कैटेगरी में आते हैं उन छात्रों को 3 साल की छूट प्रदान की जाती हैं।
  • ऑडियो छात्र एससी एसटी वर्ग में आते हैं उन छात्रों को 5 साल की छूट प्रदान की जाती है।

SHO की चयन प्रक्रिया क्या होती है?


जब आप इस जॉब के लिए तैयार हो जाते हैं और आवेदन करने की इच्छा रखते हैं, तो इसके लिए आपको कई प्रक्रियाओं से गुजरने की आवश्यकता होती है तब जाकर आपको यह जॉब प्राप्त हो पाती है, आपको इस जॉब को हासिल करने के लिए तीन अलग-अलग प्रक्रियाओं से गुजरना होगा जैसे की –

  • लिखित परीक्षा
  • फिजिकल टेस्ट
  • इंटरव्यू

SHO की लिखित परीक्षा कैसे होती है?


जब आपका यह सपना है कि आपको कुछ दिनों के बाद SHO के रूप में वर्दी पहनी है तो इसके लिए आपको इस पोस्ट को हासिल करने के लिए आवेदन करना होगा, जब आपके द्वारा इस जॉब के लिए आवेदन किया जाता है तो सबसे पहले आपको लिखित परीक्षा देनी होती है।

यह लिखित परीक्षा ऑब्जेक्टिव टाइप की होती है लेकिन आपको इस बात का ध्यान देना होगा कि इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी होती है, जब आप किसी एक सवाल का जवाब गलत दे देते हैं तो उसका एक चौथाई अंक काटा जाता है, इसीलिए आपको यह परीक्षा ध्यान पूर्वक देनी होती है।

घर बैठे पोस्ट ऑफिस की शिकायत कैसे करें?

SHO का फिजिकल टेस्ट कैसे होता है?


जब आप लिखित परीक्षा को सही प्रकार से सफल कर लेते हैं तो उसके बाद आपको एक और परीक्षा देनी होती है जिसका नाम फिजिकल टेस्ट होता है, इस परीक्षा को देने के लिए आपको बुलाया जाता है।

फिजिकल टेस्ट में आपको कई अलग-अलग प्रकार के टेस्ट से गुजरना होता है जैसे की रनिंग, लंबी कूद, ऊंची कूद, बॉल थ्रो इत्यादि इन सभी प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पास करके आपको एक और प्रक्रिया से गुजरना होता है।

SHO का इंटरव्यू कैसे देना होता है?


जब आप सभी परीक्षाओं को पास कर लेते हैं उसके बाद आपका कुछ बड़े अधिकारियों के द्वारा इंटरव्यू लिया जाता है, इंटरव्यू देने के लिए आपको एक स्थान पर बुलाया जाता है, आपसे इस प्रक्रिया में कई सारे सवालों से गुजरना पड़ता है और सभी सवालों के जवाब आपको सहित प्रकार से देने होते हैं।

जब आपके सवाल पूरी तरह सही होते हैं और इंटरव्यू लेने वाले अधिकारी आपको टेस्ट क्लियर कर देते हैं तो इसके बाद एक मेरिट लिस्ट जारी की जाती है, इस मेरिट लिस्ट में जिन व्यक्तियों का नाम होता है जो इन सभी प्रक्रियाओं से सही प्रकार से गुजरता है, और वह SHO बन जाता है।

बीए के बाद क्या करें?

SHO के कार्य क्या होते हैं?


जब आपके द्वारा सभी परीक्षाओं को पास कर लिया जाता है तब आपको SHO की नौकरी सौंप दी जाती है, इस पोस्ट पर आपको कई प्रकार के अलग-अलग कार्यों को करना होता है, इन कार्यों के बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए।

  • एसएचओ को अपने क्षेत्र में हो रही गतिविधियों पर ध्यान रखना होता है.
  • एसएचओ अपने क्षेत्र में कानूनी व्यवस्था को बनाए रखते है.
  • एसएचओ अधिकारी अपने क्षेत्र में अपराधिक गतिविधियों की जाँच आदि करते है.
  • यह अधिकारी अपने अंडर कार्य करने वाले अधिकारीयों और कर्मचारियों को अनुशासन में रखते है.
  • यह अधिकारी अपने क्षेत्र में सुरक्षा की दृष्टि से पेट्रोलिंग की व्यवस्था करते है.
  • एसएचओ अपने क्षेत्र में अपराधो की जाँच करते है.

इन कार्यों के साथ भी बहुत सारे ऐसे कार्य होते हैं जो की SHO को करने होते हैं, यही कारण है कि अधिकतर छात्र-छात्राएं इस जॉब को हासिल करने के लिए रात दिन पढ़ाई करते हैं तब जाकर ही यह जॉब मिल पाती है।

SHO का वेतन कितना होता है?


SHO बनते ही आपका प्रति महीने वेतन आने लग जाता है, शुरुआती समय में हर SHO का वेतन लगभग 35,500/ रुपए से लेकर 69,900/ प्रति महीने होता है यही कारण है कि इस जॉब के लिए अधिकतर बालक बालिका आवेदन करते हैं।

Play Store Ki Id Kaise Banaye?

Conclusion | SHO कैसे बने?


यदि आपने हमारे द्वारा लिखे हुए इस लेख को सही प्रकार से पढ़ा है तो आपको यह पता चल गया होगा कि 12वीं कक्षा पास करने के बाद किस प्रकार से SHO कि जब हासिल कर सकते हैं।

हम यही उम्मीद कर सकते हैं कि हमारे द्वारा लिखा हुआ यह लेख आपको बहुत ज्यादा उपयोगी लगा होगा, क्योंकि हमने आपको SHO शुरू से लास्ट तक बनाने की प्रक्रिया साझा की है ताकि आप अपने सपनों को पूरा कर सके।

1 thought on “12वीं के बाद SHO कैसे बने? जरूरी योग्यता, उम्र सीमा, चयन प्रक्रिया”

Leave a Comment