श्री पितर चालीसा हिन्दी में | Shree Pitra Chalisa in Hindi

Shree Pitra Chalisa in Hindi: भारत देश में प्राचीन काल से ही देवी देवताओं की पूजा की जाती है | वहीं कुछ देवी और देवताओं की चालीसा होती है | यदि आपके पूर्वज श्री पितर देवता की पूजा करते हैं तो आपको प्रतिदिन श्री पितर देवता चालीसा का पाठ करना चाहिए|

क्योंकि माना जाता है कि जिस घर में श्री पितर देवता की पूजा पाठ होता है उसे घर पर सुख शांति बनी रहती है | हालांकि प्राचीन काल से ही श्री पितर देवता की पूजा भारत देश में होती आ रही है|

वर्तमान समय में यदि देखा जाए तो बहुत ही काम ऐसे व्यक्ति है जो अपने पास श्री पितर चालीसा बुक रखते हैं | क्योंकि हर व्यक्ति अपने मोबाइल फोन या कंप्यूटर का सहारा लेकर श्री पितर देवता चालीसा पढ़ना पसंद करते हैं|

यदि आप भी लंबे समय से गूगल पर श्री पितर चालीसा हिन्दी में खोज रहे हैं तो आपको विस्तार के साथ दोहा तथा चौपाई के साथ विस्तार से श्री पितर चालीसा हिंदी में पढ़ने को मिल जाएगी|

श्री पितर चालीसा | Pitra Chalisa in Hindi

श्री पितर देवता को प्राचीन काल से ही पूजा जा रहा है | ताकि ऋषि मुनियों का यह कहना है कि जो व्यक्ति प्रतिदिन श्री पितर चालीसा का पाठ करता है उसे व्यक्ति पर भगवान श्री पितर देवता का आशीर्वाद बना रहता है|

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Shree Pitra Chalisa in Hindi
Shree Pitra Chalisa in Hindi

श्री पितर चालीसा | ॥ दोहा ॥

हे पितरेश्वर आपको, दे दियो आशीर्वाद।

चरणाशीश नवा दियो,रखदो सिर पर हाथ॥

सबसे पहले गणपत,पाछे घर का देव मनावा जी।

हे पितरेश्वर दया राखियो,करियो मन की चाया जी॥

पितर चालीसा | ॥ चौपाई ॥

पितरेश्वर करो मार्ग उजागर। चरण रज की मुक्ति सागर॥

परम उपकार पित्तरेश्वर कीन्हा। मनुष्य योणि में जन्म दीन्हा॥

मातृ-पितृ देव मनजो भावे।सोई अमित जीवन फल पावे॥

जै-जै-जै पित्तर जी साईं।पितृ ऋण बिन मुक्ति नाहिं॥

चारों ओर प्रताप तुम्हारा।संकट में तेरा ही सहारा॥

नारायण आधार सृष्टि का।पित्तरजी अंश उसी दृष्टि का॥

प्रथम पूजन प्रभु आज्ञा सुनाते।भाग्य द्वार आप ही खुलवाते॥

झुंझुनू में दरबार है साजे।सब देवों संग आप विराजे॥

प्रसन्न होय मनवांछित फल दीन्हा।कुपित होय बुद्धि हर लीन्हा॥

पित्तर महिमा सबसे न्यारी।जिसका गुणगावे नर नारी॥

तीन मण्ड में आप बिराजे।बसु रुद्र आदित्य में साजे॥

नाथ सकल संपदा तुम्हारी।मैं सेवक समेत सुत नारी॥

छप्पन भोग नहीं हैं भाते।शुद्ध जल से ही तृप्त हो जाते॥

तुम्हारे भजन परम हितकारी।छोटे बड़े सभी अधिकारी॥

भानु उदय संग आप पुजावै।पांच अँजुलि जल रिझावे॥

ध्वज पताका मण्ड पे है साजे।अखण्ड ज्योति में आप विराजे॥

सदियों पुरानी ज्योति तुम्हारी।धन्य हुई जन्म भूमि हमारी॥

शहीद हमारे यहाँ पुजाते।मातृ भक्ति संदेश सुनाते॥

जगत पित्तरो सिद्धान्त हमारा।धर्म जाति का नहीं है नारा॥

हिन्दु, मुस्लिम, सिख, ईसाई।सब पूजे पित्तर भाई॥

हिन्दु वंश वृक्ष है हमारा।जान से ज्यादा हमको प्यारा॥

गंगा ये मरुप्रदेश की।पितृ तर्पण अनिवार्य परिवेश की॥

बन्धु छोड़ना इनके चरणाँ।इन्हीं की कृपा से मिले प्रभु शरणा॥

चौदस को जागरण करवाते।अमावस को हम धोक लगाते॥

जात जडूला सभी मनाते।नान्दीमुख श्राद्ध सभी करवाते॥

धन्य जन्म भूमि का वो फूल है।जिसे पितृ मण्डल की मिली धूल है॥

श्री पित्तर जी भक्त हितकारी।सुन लीजे प्रभु अरज हमारी॥

निशदिन ध्यान धरे जो कोई।ता सम भक्त और नहीं कोई॥

तुम अनाथ के नाथ सहाई।दीनन के हो तुम सदा सहाई॥

चारिक वेद प्रभु के साखी।तुम भक्तन की लज्जा राखी॥

नाम तुम्हारो लेत जो कोई।ता सम धन्य और नहीं कोई॥

जो तुम्हारे नित पाँव पलोटत।नवों सिद्धि चरणा में लोटत॥

सिद्धि तुम्हारी सब मंगलकारी।जो तुम पे जावे बलिहारी॥

जो तुम्हारे चरणा चित्त लावे।ताकी मुक्ति अवसी हो जावे॥

सत्य भजन तुम्हारो जो गावे।सो निश्चय चारों फल पावे॥

तुमहिं देव कुलदेव हमारे।तुम्हीं गुरुदेव प्राण से प्यारे॥

सत्य आस मन में जो होई।मनवांछित फल पावें सोई॥

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई।शेष सहस्र मुख सके न गाई॥

मैं अतिदीन मलीन दुखारी।करहु कौन विधि विनय तुम्हारी॥

अब पित्तर जी दया दीन पर कीजै।अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै॥

श्री पितर चालीसा | ॥ दोहा ॥

पित्तरौं को स्थान दो,तीरथ और स्वयं ग्राम।

श्रद्धा सुमन चढ़ें वहां,पूरण हो सब काम॥

झुंझुनू धाम विराजे हैं,पित्तर हमारे महान।

दर्शन से जीवन सफल हो,पूजे सकल जहान॥

जीवन सफल जो चाहिए,चले झुंझुनू धाम।

पित्तर चरण की धूल ले,हो जीवन सफल महान॥

श्री पितर चालीसा हिन्दी पीडीएफ डाउनलोड

आज के समय में यदि देखा जाए तो बहुत ही काम ऐसे व्यक्ति हैं जो अपने पास श्री पितर चालीसा रखते हैं | वहीं कुछ लोग अपने घर पर ही श्री पितर चालीसा को भूल जाते हैं |

यदि आपके पास मोबाइल या कंप्यूटर है तो आप अपने किसी भी डिवाइस श्री पितर चालीसा हिन्दी पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं|

Shree Pitra Chalisa in Hindi
Shree Pitra Chalisa in Hindi
Shree Pitra Chalisa in Hindi PDF DownlondPDF डाउनलोड

श्री पितर चालीसा ओरिजिनल वीडियो

Read More: श्री हनुमान चालीसा हिंदी में | Hanuman Chalisa Hindi Mein

पितर देवता को खुश करने के मंत्र क्या है?

इस खंड में आप पितर देवता का आशीर्वाद पाने के लिए मंत्र साझा किया है | क्योंकि अधिकतर व्यक्तियों को पितर देवता का मंत्र याद नहीं होता है इसलिए हमने नीचे की और इनका मंत्र साझा किया है|

  • ॐ देवताभ्य: पितृभ्यश्च महायोगिभ्य एव च। नम: स्वाहायै स्वधायै नित्यमेव नमो नम:।
  • ॐ पितृगणाय विद्महे जगत धारिणी धीमहि तन्नो पितृो प्रचोदयात्।
  • ॐ आद्य-भूताय विद्महे सर्व-सेव्याय धीमहि। शिव-शक्ति-स्वरूपेण पितृ-देव प्रचोदयात्।

श्री पितर चालीसा हिन्दी में | Shree Pitra Chalisa in Hindi

Disclaimer: हमारे द्वारा साझा की गई यह सामग्री ऋषि मुनियों के बातों पर आधारित है इस सामग्री का कोई भी साइंटिफिक प्रूफ नहीं है |

यदि आपको किसी भी प्रकार की कोई भी बात से परेशानी आ रही है तो आप अपने नजदीकी किसी बढ़िया ऋषि मुनि या विशेष व्यक्ति से वार्तालाप कर सकते हैं|

1 thought on “श्री पितर चालीसा हिन्दी में | Shree Pitra Chalisa in Hindi”

Leave a Comment